Breaking News
Home / Ajab Gajab / नलकूप पर सो रहे दरोगा के साथ आधे दर्जन से ज्यादा लोगों ने किया ऐसा शर्मनाक काम, जिसे जानकर आपके पैरों तले जमीन खिसक जाएगी

नलकूप पर सो रहे दरोगा के साथ आधे दर्जन से ज्यादा लोगों ने किया ऐसा शर्मनाक काम, जिसे जानकर आपके पैरों तले जमीन खिसक जाएगी

आए-दिन इस दुनिया में तरह-तरह की घटनाएं होती रहती है. कभी महिलाओं के साथ तो कभी बच्चों के साथ या किसी अन्य तरह से हत्याओं की खबर सुनने को मिलती रहती है. ऐसे में सरकार भी इन घटनाओं को कम करने के लिए अपनी तरफ से पूरी कोशिश करती है. जिसके चलते आज देश में ज्यादातर जगहों पर सुरक्षाकर्मियों को चौबीस घंटे तैनात किया गया है. वहीं अगर जो सुरक्षाकर्मी हमारी सुरक्षा के लिए रात-दिन जगते हैं, उनके साथ ही कोई ऐसी घटना हो जाएं, जिसका कोई अंदाजा नहीं लगा सकता तो इस देश और इस देश के लोगों का क्या होगा ?

आज हम आपको यूपी में एक दरोगा के साथ हुई ऐसी घटना के बारे में बताने जा रहे है, जिसे जानकर आपके पैरों तले जमीन खिसक जाएगी. आपको बता दें कि यूपी के रायबरेली में नलकूप पर सो रहे दरोगा पर हमलावरों ने इस कदर हमला किया जो बेहद दर्दनाक था, पहले हमलावरों ने दरोगा को धारदार हथियार से मौत के घाट उतारा और उसके बाद कुछ ऐसा किया जो हैरान कर देने वाला था.

मौत के घाट उतारने के बाद किया शर्मनाक काम

उत्तर प्रदेश के रायबरेली में नलकूप पर सो रहे दरोगा धर्मेन्द्र कुमार गौतम को पहले हत्यारों ने धारदार हथियार से हत्या कर मौत के घाट उतारा उसके बाद हमलावरों ने दरोगा का गुप्तांग भी काटा और अपने साथ ले गए. जिसकी सूचना करीब सुबह 4 बजे चौकीदार गुरु प्रसाद द्वारा उनके परिवार वालों को दी गई. वहीं मृतक दारोगा के भाई ने अज्ञात हमलावरों के खिलाफ पुलिस के पास मामला दर्ज करवाया, जिसके बाद पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है. इस घटना की खबर पूरे क्षेत्र में आग की तरह फैल गई, जिस वजह से उधर काफी लोगों की भीड़ हो गई.

चौकीदार ने बताया पूरा मामला

नलकूप के चौकीदार गुरु प्रसाद के अनुसार रात को करीब 10 बजे लगभग आधे दर्जन लोग यहां आए और बरामदे में सो रहे दरोगा धर्मेन्द कुमार की हत्या कर दी. वहीं चौकीदार ने ये भी बताया कि हमलावरों ने उसकी आँखों पर पट्टी बांधकर उसे दूसरे कमरे में बंद कर दिया. जिसके बाद दरोगा को मौत के घाट उतारा गया. आपको बता दें कि अमेठी जनपद में सर्विलांस सेल में दरोगा धर्मेन्द्र कुमार तैनात थे और 2 दिन की छुट्टी लेकर अपने घर आए हुए थे.

बेकाबू भीड़ ने किया जाम

घटनास्थल पर गुस्साए लोगों की काफी भीड़ इकट्ठी हो गई. जहां गुस्साए लोग पुलिस प्रशासन मुर्दाबाद के नारे भी लगाने लगे. ज्यादा लोगों की भीड़ होने की वजह 4 घंटे तक लखनऊ-इलाहाबाद नेशनल हाईवे पर जमा लगा रहा. वहीं पहुंचे पुलिस अधीक्षक सुजाता सिंह और बछरावां विधायक रामनरेश रावत ने गुस्साए लोगों को अच्छे से समझाकर और शांत कर जाम हटवाया.

मृतक दरोगा धर्मेन्द्र कुमार गौतम के भाई वीरेन्द्र कुमार गौतम ने अज्ञात हत्यारों के खिलाफ थाने में तहरीर दी है. जिसके बाद शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है और पुलिस इस मामले की जांच में जुटी गई है.

6 घंटे तक कहां था चौकीदार ?

वहीं इस मामले में कई ऐसे सवाल उठ रहे हैं, जिसकी पुलिस छानबीन करने में लगी हुई है. जब हमलावरों ने दरोगा के हत्या करने के समय चौकीदार को कमरे में बंद कर दिया तो वो कैसे बाहर निकला ? जब चौकीदार के आँखों पर पट्टी बंधी हुई थी और वो कमरे में बंद था तो कैसे पूरी रात गुजारने के बाद ही सुबह 4 बजे परिवार वालों को सूचना देने गया ?

About simran